विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले महानुभाव का संघ द्वारा पुरस्कार देकर सम्मान किया जाता हैं। इसी कड़ी में निम्न श्रेणीयों हेतु आवेदन पत्र आमंत्रित किए जाते  हैं, । नियम एवं शर्तें आवेदन पत्र में दी गयी हैं।

आचार्य श्री नानेश की पुण्य स्मृति में इस पुरस्कार की स्थापना की गई । यह पुरस्कार संप्रदाय निरपेक्ष दृष्टि से ऐसे व्यक्ति को दिया जाता है जिसने अपने जीवन में समता दर्शन व्यव्हार को आत्मसात कर रखा हो । अब तक 9 समता मनीषियों को इस पुरस्कार के अंतर्गत सम्मानित किया जा चुका है।

आवेदन पत्र

भारतीय प्रशासनिक सेवा में उत्त्क्रष्ट कार्य करने वाले जैन मतावलंबी को यह पुरस्कार दिया जाता है।

आवेदन पत्र

इस पुरस्कार के अंतर्गत उत्त्क्रष्ट कार्य करने वाले जैन मतावलंबी को यह पुरस्कार दिया जाता है। अब तक 19  विद्वानों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका हैं

आवेदन पत्र

अभी तक निम्न महानुभावों को सेठ श्री चम्पालाल सांड स्मृति उच्च प्रशासनिक पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है:-

  1. 2012 – श्री जयंत जी बांठिया (IAS)
  2. 2014 – श्री कुलदीप जी रांका (IAS)
  3. 2015 – श्री राजीव जी दासोत, पुलिस महानिर्देशक राजस्थान सरकार, जयपुर (IAS)
  4. 2016 – श्री प्रदीप जी रूनवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिर्देशक (म.प्र.) (IPS)
  5. 2017 –  श्री मुकेश जी जैन (IPS)

अभी तक निम्न महानुभावों को आचार्य श्री नानेश समता पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है:-

  • 2001 –  श्री गुमानमल जी चौरडिया      (जयपुर)
  • 2004 – श्री सोहनलाल जी सिपाणी     (बैगलौर)
  • 2006 – श्री नाना देशमुख जी              (चित्रकूट)
  • 2008 – श्री सज्जनसिंह जी मेहता        (बड़ी सादड़ी)
  • 2010 –  श्री दीपचन्द जी गार्डी             (मुम्बई)
  • 2012 –  प्रो. श्री सागरमल जी जैन       (साजा)
  • 2012 –  श्री हरिसिंह जी रांका              (मुम्बई)
  • 2015 –  समता मनीषी श्री उमरावमल जी बंब      (टोंक)
  • 2017 –    श्री ओम जी माथुर