समता जनकल्याण प्रन्यास : ऐसे स्वधर्मी भाई बहनों को , जो असाध्य बीमारी से ग्रसित हों परन्तु चिकित्सा व्यय वहन करने में असमर्थन हों समता जन कल्याण प्रन्यास द्वारा चिकित्सा हेतु अर्थ सहयोग प्रदान किया जाता है ।

भगवान महावीर समता चिकित्सालयडोंडीलोहारा  : छत्तीसगढ़ के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में इस चिकित्सालय की स्थापना वर्ष 1999 में हुई । वर्तमान में यह चिकित्सालय वर्मन मशीन , एक्स – रे सुविधा , पैथोलोजी लेब , प्रसूति गृह एवं ऑपरेशन थियेटर आदि से सुसज्जित है । चिकित्सालय परिसर में भोजनालय एवं जल – मंदिर का संचालन भी किया जा रहा है । हजारों व्यक्ति इस चिकित्सालय से लाभान्वित हो चुके हैं

नेत्र चिकित्सा शिविर : संघ द्वारा प्रतिवर्ष आचार्य भगवन के चातुर्मास प्रवास के दौरान वृहद नेत्र चिकित्सा शिविर का आयोजन किया जाता है । हजारों नेत्र रोग पीड़ितों का उपचार इस प्रकार के शिविरों में किया जा चुका है ।

धर्मपाल – सिरिवाल प्रवृति : समता विभूति आचार्य श्री नानालालजी म.सा. ने मालवा प्रान्त में विचरण करते हुए देखा की वहां की बलाई जाती के लोग कुरीतियों से घिरे हुए थे एवं अनेक दुर्व्यसनों से ग्रसित थे । ऐसे लोगों को आचार्य भगवन ने शाकाहार , व्यसनमुक्ति एवं सुसंस्कार अपनाने हेतु विशेष उद्बोधन दिया । जिससे प्रभावित होकर मालवा क्षेत्र के सैंकड़ो गाँवो के लाखो लोगो ने व्यसनमुक्त जीवन जीने का संकल्प लिया । इन्हें आचार्य भगवन ने धर्मपाल के नाम से संबोधित किया । आचार्य श्री नानेश द्वारा उद्घोषित धर्मपाल प्रवृति के सामानांतर वर्तमान आचार्य प्रवर श्री रमेश ने राजस्थान के मेवाड़ प्रान्त की जनजाति बावरी समाज के व्यक्तियों को , जो हिंसक गतिविधिओं में लिप्त थे , कुव्यसनों को छोड़कर संस्कारित जीवन जीने की प्रेरणा दी । आचार्य भगवन ने इन्हें सिरिवाल नाम से संबोधित किया । नानेश निकेतन रतलाम द्वारा धर्मपाल – सिरीवाल प्रवृति का सुचारू संचालन हो रहा है । लोगों को संस्कारित जीवत जीने की प्रेरणा देने हेतु बहुआयामी कार्य किये जा रहे हैं ।

नानेश चिकित्सालय , रतलाम : संघ के चिकित्सा एवं आरोग्य प्रवृतियों की श्रंखला में नानेश चिकित्सालय रतलाम एक अभिनव कड़ी है । धर्मपाल बंधुओं एवं अन्य जनों के सेवार्थ तथा उपचारार्थ नानेश निकेतन परिसर रतलाम में नानेश चिकित्सालय का शुभारम्भ 10 जनवरी 2016 को किया गया । चिकित्सालय में अन्य आवश्यक सुविधाएँ जैसे ईसीजी (ECG) , रुग्णवाहिनी (Ambulance) इत्यादि उपलब्ध करवाने हेतु संघ प्रयासरत है । यह सेवा प्रकल्प तात्कालिक सफलता (Instant Success) व जनप्रियता हासिल कर चूका है । उपचार के साथ साथ नि : शुल्क औषध की भी सेवा मरीजों को उपलब्ध कराई जाती है ।