साधुमार्गी जनगणना एंव पहचान पत्र

श्री अ. भा. साधुमार्गी जैन संघ का इतिहास महान रहा है। पिछले कुछ सालों में संघ में धार्मिक, बौद्धिक, सामाजिक एवं आर्थिक हर स्तर पर बदलाव आए हैं एवं संघ का निरन्तर विकास हुआ है।

चारित्र-आत्माओं से मिल रहे मार्गदर्शन से हम सबके जीवन में आए हुए ठोस बदलाव और साथ ही साथ सभी के अथक प्रयासों के बाद संघ अब एक बहुत ही मजबूत नींव पर खड़ा है। अब समय आ गया है संघ को अगले पायदान पर ले जाने का। आने वाले समय में अनेकानेक ऐसी प्रवृत्तियाँ आपको देखने को मिलेंगी, जिनके माध्यम से हमारा संघ अपने सदस्यों के जीवन के ही पहलू, चाहे वह धर्म के क्षेत्र में हो या सम्यक् जीवन शैली, बौद्धिक विकास हो या चाहे आर्थिक उन्नति, या फिर साधुमार्गी परिवार के सदस्यों की किसी भी तरह की सेवा का काम हो, सभी उचित योगदान देता हुआ दिखाई देगा।
पारदर्शित बढे़गी, सभी को, और विशेषतः युवा साथियों को संघ से जुड़ने के लिए बहुत सारे कार्यों का विकल्प मिलेगा तथा संघ का कार्य करते हुए बहुत कुछ सीखने को भी मिलेगा।आपको यह जानकर हर्ष होगा कि देश-विदेश में श्री संघ के कई ऐसे गणमान्य सदस्य हैं जो अपने-अपने क्षेत्र में महान ऊँचाइयों को प्राप्त कर रहे हैं और अपने परिवार के साथ-साथ साधुमार्गी संघ का नाम भी रोशन कर रहे हैं। इनमें से अनेक सदस्यों ने संघ के लिए अपनी सेवाएं निःशुल्क देने की इच्छा जताई है। संघ के सभी सदस्यों को उचित व्यवस्था के तहत इन विशेषज्ञों की सेवाएं लेने का लाभ प्राप्त होगा।

इस सूचना के एकत्रित हो जाने के बाद संघ के सभी सदस्यों को एक “पहचान पत्र” (आई. डी. कार्ड) जारी करेगा। आगामी कुछ समय में इस कार्ड के माध्यम से अनेक व्यावसायिक उत्पादनों/सेवाएं ( जैसे किराने का सामान, कपड़े, हवाई यात्रा टिकट्स व अन्य कई) पर छूट का भी प्रावधान रहेगा और संघ की सभी गतिविधियां इसी कार्ड के माध्यम से संचालित होंगी।

आवेदन करें